कई ऐसे पौधे हैं, जिनके पत्तों और फूलों की गंध मच्छरों को पसंद नहीं होती है। अगर ये पौधे घरों में लगे हों तो मच्छर कम आते हैं।

अपने घरों में मच्छरों से निजात पाने के लिए हम सब क्या कुछ नहीं करते हैं। मच्छरों को भगाने वाले महंगे लिक्विड्स से लेकर कॉइल्स तक, सभी घरों में कुछ न कुछ इस्तेमाल होता है। हालांकि, अब बहुत से लोग मच्छरों को भगाने के लिए भी प्रकृति के अनुकूल उत्पाद इस्तेमाल करने पर जोर दे रहे हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा तरीका बता रहे हैं, जो प्रकृति के अनुकूल होने के साथ-साथ किफायती भी है। मच्छरों से निजात पाने के लिए आप अपने घर में ऐसे पेड़-पौधे लगा सकते हैं, जिनकी गंध से मच्छर दूर भागते हैं। 

दिल्ली में रहने वाली नव्या बजाज कहती हैं कि कई ऐसे पौधे हैं, जिनके पत्तों और फूलों की गंध मच्छरों को पसंद नहीं होती है। अगर ये पौधे घरों में लगे हों तो मच्छर कम आते हैं। उन्होंने कहा, “आप अपने घर की खिड़कियों, बालकनी या दरवाजों के पास इन पौधों को लगा सकते हैं। इनसे न सिर्फ मच्छर बल्कि और भी कई तरह के कीड़े-मकौड़े दूर भागते हैं। इस तरह से आपको मच्छरों से राहत पाने के लिए कोई हानिकारक उत्पाद इस्तेमाल नहीं करने पड़ेंगे।” 

आज हम आपको ऐसे ही कुछ पौधों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें अपने घर में लगाकर आप मच्छरों से निजात पा सकते हैं। 

1. गेंदा:

घरों में गेंदा उगाना बहुत ही आसान है। आप इसकी कोई भी किस्म लगा सकते हैं। गेंदे के पौधों को मिट्टी के गमलों,हैंगिंग प्लांटर और तो और पुरानी प्लास्टिक की बोतलों में भी लगाया जा सकता है। गेंदे के पौधे सभी मौसम में लगाए जा सकते हैं, लेकिन इसके लिए नवंबर से लेकर जनवरी तक का मौसम सबसे अच्छा है। क्योंकि, गेंदे का पौधा 15-30 डिग्री तापमान में तेजी से विकास करता है। सबसे अच्छी बात है कि आप गेंदे के इस्तेमाल किए हुए फूलों से भी गेंदे के नए पौधे लगा सकते हैं। 

अगर आपको घर में गेंदा का पौधा तैयार करना है, तो आप अच्छी किस्म के गेंदे के फूल को 2-3 दिनों तक धूप में सूखा लीजिए। इसके बाद, एक सेमी शेड वाले एरिया में गमले में या किसी अन्य कंटेनर में मिट्टी तैयार कर लीजिए। इससे पौधा 8-10 दिनों में तैयार हो जाता है। 

  • पॉटिंग मिक्स तैयार करने के लिए आप 50-60% वर्मी कम्पोस्ट या गोबर की खाद के साथ 40% बालू मिलाएं और किसी गमले या कंटेनर में भर लें। 
  • फिर, मिट्टी में थोड़ी नमी बना कर, उस पर सूखा हुआ फूल छिड़क दें। इस तरह, 8-10 दिनों में पौधा 3-4 इंच का हो जाएगा।
  • अब इन पौधों को आप अलग-अलग गमलों या कंटेनर में लगा सकते हैं। 
  • पौधों को ट्रांसप्लांट करते समय आप पॉटिंग मिक्स के लिए 50% बगीचे की मिट्टी, 30% वर्मी कम्पोस्ट या गोबर का खाद और 20% कोकोपीट या बालू का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • पौधे लगाने के बाद नियमित रूप से पानी दें और ध्यान रखें। 
  • लगभग दो-तीन महीनों में पौधों में फूल आने लगते हैं। 
  • अब इन्हें आप अपने घर में अलग-अलग जगहों जैसे खिड़की के पास, बालकनी या दरवाजे के पास लगा सकते हैं। 
  • लेकिन ध्यान रखे कि जहां भी पौधे लगाएं वहां धूप आती हो। 

मच्छरों को भगाने के साथ-साथ गेंदा और अन्य हानिकारक कीटों को भी भगाता है जो फल-सब्जियों के पौधों को खराब करते हैं। इसलिए गेंदे के पौधे आप हमेशा अपने घर या गार्डन में लगा सकते हैं। 

2. तुलसी

औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी खांसी, जुकाम, बुखार और भी कई तरह के रोगों में काम आती है। साथ ही, मच्छरों से बचाव में भी तुलसी काफी सहायक है। तुलसी की बहुत सी किस्में होती हैं जो आप अपने घर में लगा सकते हैं। वैसे तो तुलसी पूरे सालभर उगती है लेकिन इसे लगाने का सबसे अच्छा समय होता है बारिश का मौसम। जून-जुलाई के बाद जब बारिश शुरू होती है, तब इसके पौधे तैयार करने चाहिए। तापमान की बात करें तो अगर आपके इलाके का तापमान 20 से 30 डिग्री के बीच है तो आप तुलसी के पौधे लगा सकते हैं।

तुलसी लगाने के लिए आप इसके बीज या कटिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं। आपने देखा होगा कि तुलसी जैसे-जैसे बढ़ती है तो इसमें ऊपर बहुत से बीज भी आते हैं। आप उन बीजों को ही ले सकते हैं और इन्हें हाथ में हल्का-सा रगड़ लें तो अंदर से छोटे-छोटे बीज निकल आयेंगे। इनसे ही आप तुलसी के पौधे लगा सकते हैं। 

  • सबसे पहले किसी छोटे प्लास्टिक के कप या छोटे गमले में आप कोकोपीट और खाद मिलाकर पॉटिंग मिक्स तैयार कर लें।
  • अब इसमें तुलसी के बीज डाल दें और इनके ऊपर हल्का सा कोकोपीट भी।
  • पानी का छिड़काव करते रहें ताकि यह बीज को या फिर पॉटिंग मिक्स को बहाए नहीं।
  • लगभग एक हफ्ते में बीज अंकुरित होकर बढ़ने लगते हैं। 
  • पौधा जब लगभग 10-12 इंच का हो जाए तो आप इसे ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।
  • ट्रांसप्लांट करने के लिए मध्यम आकार के गमला लें।
  • पॉटिंग मिक्स के लिए मिट्टी में रेत/बालू, कोकोपीट और खाद मिला लीजिए।
  • एक गमले में एक तुलसी का पौधा लगाएं और इसे ट्रांसप्लांट करने के एक दिन बाद धूप में रखें।

तुलसी के पौधों को भी आप अपने घर में जरूरत के हिसाब से अलग-अलग जगह रख सकते हैं। लेकिन इन्हें ऐसी जगह रखें, जहां इन्हें दिन में थोड़ी-बहुत देर धूप भी मिले। 

3. लेमन ग्रास 

लेमन ग्रास में बहुत से औषधीय गुण होते हैं। इसलिए इसकी बाजार में भी काफी मांग है। इससे हर्बल टी बनाने के साथ-साथ, आप इसे अपने घर में मच्छरों को भगाने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। अच्छी बात यह है कि आप इसे आसानी से अपने घर में, गमलों में उगा सकते हैं। अगर आपके यहाँ, एक गमले में भी लेमन ग्रास लगी है तो आप सालों-साल इसका लाभ ले सकते हैं। आप बाजार से खरीदी हुई लेमन ग्रास को भी, आसानी से अपने घर में लगा सकते हैं।

  • सबसे पहले, बाजार से खरीदी हुई लेमन ग्रास के कुछ डंठल (Stalk) लें।
  • अब किसी कांच के ग्लास में पानी भर लें और इसमें इन डंठलों को रख दें। ध्यान रहे कि ये डंठल पूरी तरह से पानी में न भीगें।
  • आपको लगभग एक हफ्ते तक, इन्हें पानी में रखना है और नियमित रूप से ग्लास का पानी बदलते रहें।
  • हफ्ते भर में आप देखेंगे कि इन डंठलों में नीचे की तरफ जड़ें निकलने लगी हैं।
  • अब आप इन्हें गमलों में लगा सकते हैं।
  • लेमन ग्रास के लिए दोमट मिट्टी उपयुक्त रहती है। इसके लिए, आप सामान्य बगीचे की मिट्टी में रेत और खाद मिला लें।
  • पॉटिंग मिक्स को आप किसी बड़े गमले में भर लें।
  • लेमन ग्रास के पौधों को उस गमले में लगा लें और ऊपर से पानी दें।
  • लेमन ग्रास के पौधे को नियमित रूप से पानी दें और बीच-बीच में, आप इसे जैविक खाद का पोषण दे सकते हैं।
  • आपका पौधा चार से पांच महीने में उपयोग में लेने योग्य हो जाएगा। 

आप एक ही बार में तीन-चार अलग-अलग गमलों में लेमन ग्रास लगा सकते हैं। ताकि घर के अलग-अलग हिस्सों में इन्हें लगा सकें। 

4. रोज़मेरी

रोज़मेरी एक हर्ब है और यह ठंडी जलवायु में उगती है। इसलिए इसे बाहर या अपने किचन में न रखें, जहां उपकरणों और चूल्हे की गर्मी बहुत ज्यादा हो। इसके बजाय इसे अपने लिविंग रूम या बेडरूम में उगाएं क्योंकि यह अन्य जगहों की अपेक्षा ठंडे होते हैं। 

  • बीज को पानी में एक या अधिक से अधिक दो दिन के लिए भिगोएं। 
  • इसके बाद किसी कंटेनर में कोकोपीट भरकर, उसमें बीज लगा दें। 
  • ऊपर से पानी स्प्रे करें और लगभग 10 दिनों में बीज अंकुरित हो जाने चाहिए। 
  • ध्यान रहे गमलों को ऐसी जगह रखें जहां उन्हें हल्की धूप और हवा मिल सके।
  • आप जैविक उर्वरक जैसे कंपोस्ट का भी प्रयोग कर सकते हैं।
  • जब पौधे बढ़ने लगे तो आप इन्हें अलग-अलग गमलों में पॉटिंग मिक्स भरकर लगा सकते हैं। 
  • डेढ़-दो महीनों में रोजमेरी के पौधे उपयोग के लिए तैयार हो जाएंगे। अपनी जरूरत के अनुसार पत्तियों या तने को काटें और पौधे को बढ़ने दें।

5. पुदीना 

पुदीना उगाना बहुत ही आसान है और यह मच्छरों को दूर रखने में भी कारगर है। साथ ही, यह ऐसा पौधा है जो बहुत जल्दी ग्रो करता है और आप एक बार लगाने के बाद इससे कई उपज ले सकते हैं।

  • सबसे पहले आप बाज़ार से लाया हुआ या फिर किसी और के गार्डन से लाया हुआ पुदीना लें और इसे पानी में भिगों दें। लगभग 10 घंटे तक पानी में भिगोने के बाद आप इन्हें लगाएं।
  • पुदीना के लिए पॉटिंग मिक्स तैयार करना बहुत ही आसान है। आप कहीं भी गार्डन से मिट्टी ले सकते हैं, जिसे हम लाल मिट्टी कहते हैं और इसमें रेत, गोबर की खाद या फिर वर्मीकंपोस्ट मिला लें।
  • ध्यान रहे कि आप जो भी गमला लें, उसमें ड्रेनेज अच्छे से हो मतलब गमले के तले में छेद सही से हों।
  • अब आप पुदीना को पानी से निकालें और आप देखेंगे कि कुछ ऐसी कटिंग हैं जिनमें नीचे हल्की-हल्की जड़ें निकली हुई हैं। आप इन कटिंग्स को अलग कर लें और बिना जड़ वाली कटिंग्स को अलग।
  • कटिंग को लगाते समय ध्यान रहे कि आप सिर्फ ऊपर में दो-चार पत्ते छोड़ें, बाकी नीचे से सभी पत्ते निकाल दें।
  • अब गमले में पॉटिंग मिक्स भरें और इसमें पानी डालें। पानी सोखने के बाद आप किसी लकड़ी की मदद से मिट्टी में छोटे-छोटे छेद कर दें।
  • कटिंग लगाने के बाद एक बार फिर इनमें पानी दें। इन गमलों को आप ऐसी जगह पर रखें, जहां सीधी धूप न पड़ती हो लेकिन एकदम अंधेरा भी न हो।
  • नियमित तौर पर इन पर पानी स्प्रे करते रहें और एक हफ्ते बाद आप देखेंगे कि ये कटिंग्स पौधों में बदलने लगी हैं।
  • लगभग 25 दिन में ये पौधे बढ़ने लगेंगे और फिर आपका पुदीना हार्वेस्टिंग के लिए तैयार भी होगा।

आप पुदीना को कई अलग-अलग छोटे कंटेनर में लगाकर घर की खिड़कियों या बालकनी में लटका सकते हैं। ताकि यहां से मच्छर न आ सकें। इनके अलावा, आप अपने घर में लहसुन, प्याज, ऑरेगैनो, लैवेंडर, लैंटाना, जेरेनियम जैसे पौधे भी लगा सकते हैं। क्योंकि ये पौधे भी मच्छरों को दूर भगाने का काम करते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.