lunar-eclipse

तकरीबन 600 साल बाद लगने जा रहा ऐसा चंद्रग्रहण, जानें इस चंद्रग्रहण की ख़ास बातें

चंद्रग्रहण हो या फ‍िर सूर्यग्रहण दोनों को ही लेकर कौतुहलता हमेशा ही बनी रहती है। इस वर्ष का अंत‍िम चंद्रग्रहण 19 नवंबर यानी क‍ि शुक्रवार को लगने जा रहा है। नासा के अनुसार ये आंश‍िक चंद्र ग्रहण होगा जो क‍ि 18 और 19 की मध्‍य रात्रि के आसपास होगा। यानी क‍ि 18 की रात और 19 की भोर के नजदीक का समय कहा जाए तो गलत नहीं होगा। बहरहाल ये टाइमजोन पर भी न‍िर्भर है क‍ि क‍िस वक्‍त कहां यह देखा जा सकेगा। इतनी लंबी अवधि का चंद्रग्रहण तकरीबन 600 साल बाद देखने को म‍िलेगा। तो आइए जानते हैं चंद्रग्रहण से जुड़ी कुछ और खास बातें।

आंशिक चंद्रग्रहण यानी क‍ि 19 नवंबर के द‍िन चंद्रमा और धरती के बीच अध‍िक दूरी के कारण यह ग्रहण लंबी अवध‍ि का होने वाला है। इस आंश‍िक चंद्रग्रहण की अवध‍ि 3 घंटे 28 म‍िनट और 24 सेकंड्स की होगी। इससे पहले इतना लंबा चंद्रग्रहण 18 फरवरी 1440 में पड़ा था। यानी क‍ि इतनी लंबी अवध‍ि का यह आंश‍िक चंद्रग्रहण 580 वर्षों बाद पड़ रहा है। ऐसे ही लंबी अवधि का चंद्रग्रहण 8 फरवरी 2669 में पड़ेगा।

भारत में यह आंश‍िक चंद्रग्रहण 19 नवंबर को दोपहर 12 बजकर 48 म‍िनट पर शुरू होगा और 4 बजकर 17 म‍िनट तक द‍िखाई देगा।

यह चंद्रग्रहण भारत में मण‍िपुर की राजधानी इंफाल और उसके सीमावर्ती क्षेत्रों में देखा जा सकेगा। हालांक‍ि यहां भी यह पूरी तरह से नजर नहीं आएगा बल्कि एक हल्‍की रेखा के रूप में ही नजर आएगा।

यह 2021 का दूसरा और आख‍िरी चंद्रग्रहण है। इससे पूर्व 26 मई को चंद्रग्रहण लगा था। जो पूरी तरह से लाल रंग का था इसल‍िए उसे सुपरमून या फ‍िर रेड ब्‍लड मून भी कहा जाता है। इस आंश‍िक चंद्रग्रहण के 15 द‍िन बाद यानी क‍ि 4 द‍िसंबर को पूर्ण सूर्य ग्रहण भी लगने वाला है। अगले चंद्रग्रहण की बात करें तो वह 8 नवंबर 2022 में देखा जा सकेगा। यह चंद्रग्रहण दुन‍िया के कई ह‍िस्‍सों मसलन यूरोप, ऑस्‍ट्रेल‍िया, उत्‍तरी-दक्षिण अमेर‍िका, प्रशांत महासागर, अंटार्कट‍िका, ह‍िंद महासागर और एश‍िया में देखा जा सकेगा।

जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच आ जाती है यानी कि सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में आ जाते हैं तो इस घटना को ही चंद्र ग्रहण कहते हैं। लेक‍िन जब पूरा चंद्रमा पृथ्वी की छाया में होता है तब पूर्ण चंद्र ग्रहण होता है। वहीं, जब चंद्रमा का केवल एक भाग ही पृथ्वी की छाया में होता है तो आंशिक चंद्र ग्रहण होता है।

वृष पूर्णिमा चंद्र ग्रहण आपको आपके आराम क्षेत्र से बाहर निकालने के लिए आ रहा है

19 नवंबर को, हम 2014 के बाद से पहले वृष ग्रहण का अनुभव करने जा रहे हैं। पूर्णिमा अपने आप में काफी शक्तिशाली होती है, लेकिन जब आप वृष की ऊर्जा और चंद्र ग्रहण की ऊर्जा को जोड़ते हैं, तो हम एक पूरी तरह से नए तक पहुंच जाते हैं। परिवर्तनकारी ऊर्जा का स्तर।

ज्योतिष और अध्यात्म में ग्रहण परिवर्तन और जागृति का प्रतिनिधि है। अक्सर, इन पोर्टलों के साथ जीवन के प्रमुख सबक भी आते हैं, जो कि नियत घटनाओं के रूप में दिए जाते हैं। इस घटना के आसपास की अपार ऊर्जा के कारण, हमारे रास्ते में आने वाले कुछ बड़े बदलाव होने की संभावना है जो हमारे जीवन की दिशा बदल सकते हैं।

हालांकि, इन पाठों के प्रति अपना दृष्टिकोण बदलना महत्वपूर्ण है, ताकि वे अपने उद्देश्य की पूर्ति कर सकें।

अक्सर, ग्रहण जोड़े में आते हैं, इसलिए यह विशेष ग्रहण वृश्चिक ग्रहण के साथ जुड़ने वाला है जिसे हम 2022 में देखेंगे।

यह समझने के लिए कि यह बदलाव आपके जीवन में क्या लाने जा रहा है, आपको 2013 और 2014 में अपने जीवन को देखने की आवश्यकता हो सकती है। इस समय के दौरान, हमने वृषभ और वृश्चिक राशि में एक समान ग्रहण साझेदारी की थी, इसलिए हम पोर्टल को बंद कर देंगे। उस अवधि से और एक नया खोलना।

उस दौरान आपको कौन से सबक दिए गए, और किस बात ने आपको विकसित होने और बढ़ने के लिए प्रेरित किया?

इस विशेष ग्रहण के प्रमुख विषयों में से एक आपको अपने सच्चे स्व के साथ आधार को छूने के लिए प्रेरित करने वाला है। चूंकि वृष राशि का प्रतिनिधित्व पृथ्वी करती है, इसलिए हमारे लिए भौतिक पर एक प्रमुख ध्यान दिया जाएगा। इसमें सामान, धन और यहां तक ​​कि हमारे भौतिक शरीर के साथ हमारा संबंध शामिल है।

और चूंकि यह एक ग्रहण है, इसलिए हमें इस ऊर्जा को दोनों ओर से देखने के लिए प्रेरित किया जाता है। इसे ध्यान में रखते हुए, हमें भौतिक संसार के साथ अपने संबंधों की पुन: जांच करनी चाहिए और यह हमें चीजों के आध्यात्मिक पक्ष से कैसे रोकता है। कभी-कभी, हम संपत्ति, धन और चीजों को खरीदने में इतने व्यस्त हो जाते हैं कि हम अपनी यात्रा के अधिक अंतरंग और आध्यात्मिक पहलुओं से पूरी तरह चूक जाते हैं।

इस पर निर्भर करते हुए कि आप अपनी यात्रा पर कहाँ हैं, आप बड़े बदलाव या घटनाएँ देख सकते हैं जो आपको इस क्षेत्र में विकास की ओर धकेलेंगे। अपनी ऊर्जा को तुरंत प्राप्त करना शुरू करने का एक अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि आप अपने पथ के सभी क्षेत्रों में संतुलन का अभ्यास करें। कुछ जमीनी व्यायाम करने की कोशिश करें, या यहाँ तक कि बैठ भी जाएँ, और एक सूची लें कि आप जीवन के प्रति कैसे दृष्टिकोण रखते हैं। आप पैटर्न को नोटिस करना शुरू कर सकते हैं, ताकि आप अपने स्वयं के काम को ट्रैक पर ला सकें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page