ghee

बाजार से खरीदा घी असली है या नकली, ऐसे करें मिनटों में मिलावट की पहचान

खाने में स्वाद बढ़ाने के लिए घी का तड़का लगाना हो या फिर दवा के रूप में कई रोगों से पीछा छुड़वाना हो, देसी घी के पास हर मर्ज का इलाज है। लेकिन ऐसा तभी होता है जब घर पर आने वाला घी शुद्ध हो। ऐसे में यह जानने के लिए कि आपके घर पर आने वाला घी शुद्ध है या नहीं अपनाएं ये आसान टिप्स एंड ट्रिक।

उबालकर देखें –

मार्केट से खरीदे हुए घी में से चार से पांच चम्मच घी निकालकर उसे किसी बर्तन में डालकर उबल लें। इसके बाद घी के इस बर्तन को लगभग 24 घंटे के लिए अलग रख दें। अगर 24 घंटे के बाद भी घी दानेदार और महक रहा है तो घी असली है। अगर ये दोनों ही चीजें घी में से गायब है तो घी नकली हो सकता है।

नमक का इस्तेमाल-

घी असली है या नकली, यह पता करने के लिए आप नमक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए एक बर्तन में दो चम्मच घी ,1/2 चम्मच नमक के साथ एक चुटकी हाइड्रोक्लोरिक एसिड मिलाकर तैयार किए गए मिश्रण को 20 मिनट के लिए अलग रखकर छोड़ दें। 20 मिनट बाद आप घी का रंग चेक करें। अगर घी ने कोई रंग नहीं छोड़ा है। तो घी असली है लेकिन अगर घी लाल या फिर किसी अन्य रंग का दिखाई दे रहा है तो समझ जाएं घी नकली हो सकता है।

पानी का इस्तेमाल-

पानी का इस्तेमाल करके भी आप बड़ी आसानी से घी के असली या नकली होने का पता लगा सकते हैं। इसके लिए आप सबसे पहले एक ग्लास में पानी भरकर एक चम्मच में घी निकालकर डालें। अगर घी पानी के ऊपर तैरने लगे तो आप समझ सकते हैं, कि घी असली है। अगर घी पानी के नीचे बैठ जाता है तो घी नकली हो सकता है।

Disclaimer- इस आलेख में दी गई जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

ऐसे ही और टिप्स / हैक्स पाने के लिए जुड़ें रहें। कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें ताकि आप तक सभी पोस्ट समय से पहुचें। यदि आपको हमारे आर्टिकल अच्छे लगते हैं, तो इन्हें शेयर जरूर किया करें। आपका स्नेह हमारे जोश को बढ़ाता है और हमें और नयी और उपयोगी जानकारी आपतक पहुंचाने के लिए प्रोत्साहित करता है

हम आपको हमारे फेसबुक समुदाय से जुड़ने के लिए आमंत्रित करते हैं, कृपया ग्रुप से जुड़कर हमारी शान बढ़ाएं।

You cannot copy content of this page